आहीं केरु

आहीं केरु जो अहमु करीं थो एतिरो ,

पाणीअ जो बुदबुदो – हवा लग॒दे उझाणो ।

सामानु सजायो तो घणो – पर असुलु विञायो ।

समुझी थो पाणु सियाणो – पर आहीं इयाणो ।

कृपा करि तूँ पाणते – वठु सच जो सहारो ।

करि मिसिकीननि जी सेवा – त घोटु मिलेई घर में ।

श्याम मुरारी

तो बिन श्याम मुरारी, हँजू हारियमि , गो॒रिहा गा॒रियमि ,

तो लाइ अखियूँ वेगा॒रियूँ , मुखिरा सुकी हीणा थिया ।

तो बिन श्याम मुरारी , भजु॒ राधे श्याम-राधे श्याम ।

करि बा॒झ

पियारा दशॊनु ढि॒यो अची – तो बिन रही न सघूँ सखी ॥

जल बिन मछली ,चाँद बिन चांदनी , साजन बिन सजिनी ।

विरह बिन व्याकुलु कयो डी॒हं राति – श्यान बिन मधुबनी ॥

उञ न बुख , नीहं न निढ – तुम बिन प्यासी आउँ ।

छा चवा को अखर न आहे – तुम बिन प्यासी आउँ ॥

छो तरिसायो अँतरयामी – बयमि उझामी आउँ ।

विमला चवे मनु निमॅलु करे – शरण तुहिंजे आउँ ॥

करि खबर

करि ख़बर तूँ मुहिंजा यार – छा चवां मां , कहिंखे बुधायां ।

किथे हुयासी , किथे पहुँतासी – सिँधु छढे॒ हिंदु में आयासी । करि …

पर सिँधी थी , सिँधी रहियांसी – मज़हब मुंझायो सोचियो से कीनकी ।

मुहिंजो ख़ुदा , या मुहिंजो परिमात्मा – समझ न आई भाई । करि …

वकतु अजायो मूँ विञायो , जा॒तुमु कोन मूँ तोखे सांई ।

कढी मंदाई , करि चङाई सभसां – पोइ पसूँ ख़ुदा जे नूर खे । करि ..

सूँह आसांजी

सिंधियुनि जी सूँह – आहिनि सिंधु जा संत ॥

शाह सेखारी आ सबूरी – वसणु पसे पयो सभमें रामु ।

बेदल बेकस पाणु पचायो – पातो पोइ अगोचर राम ॥

सचल सांईअ सचु सुञातो – पहिंजे मन खे मारे दशॅनु करायो ।

भग॒त कंवर भग॒ती कराए – कयो सभजो कल्याणु ॥

सांई नेभिराज माया विसारी – सुमरन मां सभु कुझु पातो ।

साधू वासवाणीअ रूहानी राज़ु -बुधायो छढे॒ पहिंजो पदु नामु ॥

करे यादि मां संतनि खे – हाणे अलख़ु जगा॒यो।

जयराम अचे यादि संतनि जी – विञाए पाणु सचु सुञातो॥

सची सिक

सिक सचीअ जो प्यासो मां -प्रेम पूजारी आहियां मां ॥

दुयॊधन जा ताम छदे॒ – विदुर सां पालक खावा मां ॥

पियार जी ढो॒र पकी आ भाई – छढा॒ए कोन सघा थो मां ॥

गज जी चाह मूँखे पुकारियो – सिक सचीअ बि उन खे तारियो ॥

शाम जी लीला

शाम जी लीला

अजबु आ शाम जी लीला – हू कहिड़ा रूप बणाए थो ॥

कहिड़ी रचाई तूँ लीला – केरु चरिखो हलाए थो ॥

थणनि में भरे खीरु – केरु बा॒लकु पाले थो ॥

जयराम मति मुहिंजी मारी आ – केरु तोखे सुञाणे थो ॥

सिंधु जा संत

सचा संत सिंधु जा – कहिड़ी ढि॒यां मां जाण ; सच सां नातो सभजो – आहे अखियुनि अगि॒यां ॥
सचल सर मस्तु कोन विसिरे थो कहिंखां ; बेदल ऐं बेकस पसियो पहिंजो पाण मां ॥
शाह जे कलाम ढि॒नो ज्ञानु सबूरीअ मां ; सामी जे सलोकनि बा॒रे ढि॒नो ढि॒यो हथ में ॥
संत कँवर सेखारियो भगितीअ में ज्ञानु ; साधू वासिवाणीअ छढे॒ पदु जा॒तो पहिंजो पाण में ॥
जयराम चवे शहरु पूनो वसायो ; हिंदु खे सिंधु बणाए – वजा॒ए नालो सिंधु जो ॥

राम जी लीला

अजबु आ राम जी लीला , हू छा मां छा बणाए थो ।
1948 में भारत खे अंग्ररेज़नि खां छढा॒ए थो । असांखे सिंधु मां पुणि भजा॒ए थो ॥ अजबु आ ….
ढुखियो वकतु ढे॒खारे – रामजी हिंदुस्तानु घुमाए थो ।
कुशाला सेखारे , रामजी सुखियो सताबो बणाए थो ॥ अजबु ….
समुझ अता करे, वणिज वापार में राजा बणाए थो ।
मंदिर- धमॅशालाऊँ बणाए , रामजी नामाचारु ढियारे थो ॥ अजबु …
रखूँशल पाण में एको – हथखे हथु वधाए थो ।
करे बख़शीश हू पहिंजी – सितारो बुलदु बणाए थो ॥ अजबु आ ….

छा लिखां

छा लिखां , अखर लभनि था कीनकी ।
गुण गा॒यां थो सदा – अञा गा॒इण जी आ इच्छा ॥
समझ वई आ विसरी -गुण अणमया ।
लहर-लहर पई नचे -तुहिंजे नाम तां ॥
कंवरु नचे , सचलु नचे – तुहिंजे नाम तां ।
नचणु जा॒णा मां कीनकी – तढि॒ बि पयो नचा ॥
अखर लभनि कीनकी – तढ॒हिं बि पयो चवां।
जयराम मिसकीन खे – ढे॒ ढा॒ति नाम जी ॥