मञु त मिलंदे

मञु त मिलंदे    –   मिलंदे त मञींदे,
पर अवलि ( पहिरियांई ) मञु  – त मिलियो रहंदे।
मञु पहिरयांई त परमात्मा हिते आहे,
मञु त परमात्मा हाणे आहे,
मञु त परपात्मा पाण में आहे,
आख़िर मञु त परपात्मा मुहिंजा आहिनि।

करे विशवासु पाण में – लगाए पहिंजो ध्यानु अंदर में ,
विसारे  संसार खे – पसु तूँ परमात्मा खे।