ब्रिज जो वर्णनु

ब्रज जी महिमा छा चवां , आहे अजबु पसारो ।

वण-टण सभु भरपूरु हुआ , गाहु बि हुओ साओ ।

पसूं-पखी सभु पया लंवनि , शोभा में नियारो ।

हीरा माणिक अणमया , गायूँ-गाबनि जो खज़ानो।

न हुयो कोई ढु॒बि॒रो भाई , लक्ष्मीअ जो आ वासो ।

जमुना जल जो अजीबु निज़ारो , समुझे को प्यारो ।

खुशिबू हुई ब्रज भूमिअजी , चई न सघा मां इयाणो ।

कण-कण में कृष्णु वसे थो , आहे सभखां नियारो ।

जयराम चवे सभ जे मन में , राम ऐं शाम जो वासो ।

You May Also Like

About the Author: Jairam