नशो

No Picture

नशो शराब भँग जो – लजा॒ए थो लोकु , नशो चढ़े न लक्षमीअ जो – विञाए लोक परलोकु । नशो सचे साईंअ जो – आहे अजीबो गरीबु , समुझी इसरारु उनजो – महुँचे थो सुर्गु॒ लोकु । कुछे-पुछे…

Read More »

Mar 2007

No Picture

ब्रिज जो वर्णनु ब्रज जी महिमा छा चवां , आहे अजबु पसारो । वण-टण सभु भरपूरु हुआ , गाहु बि हुओ साओ । पसूं-पखी सभु पया लंवनि , शोभा में नियारो । हीरा माणिक अणमया , गायूँ-गाबनि जो…

Read More »

आहीं केरु

No Picture

आहीं केरु जो अहमु करीं थो एतिरो , पाणीअ जो बुदबुदो – हवा लग॒दे उझाणो । सामानु सजायो तो घणो – पर असुलु विञायो । समुझी थो पाणु सियाणो – पर आहीं इयाणो । कृपा करि तूँ पाणते…

Read More »

श्याम मुरारी

No Picture

तो बिन श्याम मुरारी, हँजू हारियमि , गो॒रिहा गा॒रियमि , तो लाइ अखियूँ वेगा॒रियूँ , मुखिरा सुकी हीणा थिया । तो बिन श्याम मुरारी , भजु॒ राधे श्याम-राधे श्याम ।

Read More »

करि बा॒झ

No Picture

पियारा दशॊनु ढि॒यो अची – तो बिन रही न सघूँ सखी ॥ जल बिन मछली ,चाँद बिन चांदनी , साजन बिन सजिनी । विरह बिन व्याकुलु कयो डी॒हं राति – श्यान बिन मधुबनी ॥ उञ न बुख ,…

Read More »

करि खबर

No Picture

करि ख़बर तूँ मुहिंजा यार – छा चवां मां , कहिंखे बुधायां । किथे हुयासी , किथे पहुँतासी – सिँधु छढे॒ हिंदु में आयासी । करि … पर सिँधी थी , सिँधी रहियांसी – मज़हब मुंझायो सोचियो से…

Read More »

सूँह आसांजी

No Picture

सिंधियुनि जी सूँह – आहिनि सिंधु जा संत ॥ शाह सेखारी आ सबूरी – वसणु पसे पयो सभमें रामु । बेदल बेकस पाणु पचायो – पातो पोइ अगोचर राम ॥ सचल सांईअ सचु सुञातो – पहिंजे मन खे…

Read More »

सची सिक

No Picture

सिक सचीअ जो प्यासो मां -प्रेम पूजारी आहियां मां ॥ दुयॊधन जा ताम छदे॒ – विदुर सां पालक खावा मां ॥ पियार जी ढो॒र पकी आ भाई – छढा॒ए कोन सघा थो मां ॥ गज जी चाह मूँखे…

Read More »

शाम जी लीला

No Picture

शाम जी लीला अजबु आ शाम जी लीला – हू कहिड़ा रूप बणाए थो ॥ कहिड़ी रचाई तूँ लीला – केरु चरिखो हलाए थो ॥ थणनि में भरे खीरु – केरु बा॒लकु पाले थो ॥ जयराम मति मुहिंजी…

Read More »

सिंधु जा संत

No Picture

सचा संत सिंधु जा – कहिड़ी ढि॒यां मां जाण ; सच सां नातो सभजो – आहे अखियुनि अगि॒यां ॥ सचल सर मस्तु कोन विसिरे थो कहिंखां ; बेदल ऐं बेकस पसियो पहिंजो पाण मां ॥ शाह जे कलाम…

Read More »